Shaheed Kosh

इनके व्यक्तित्व के बारे में कोई भी तथ्य छूट गया हो या कोई तथ्य त्रुटिपूर्ण तो कृपया ज़रूर बतायें

- प्रतापचंद्र मज़ूमदार का जन्म बंगाल के हुगली ज़िले के एक उच्च मध्यवर्गीय बंगाली परिवार में 1840 ई. में हुआ था। उन्होंने अपनी प्रारंभिक शिक्षा-दीक्षा अपने गांव तथा कलकत्ता से प्राप्त की। सन् 1859 में दसवीं की परीक्षा उत्तीर्ण करने के पश्चात् उन्होंने उच्च शिक्षा के लिए कलकत्ता के प्रेसीडेंसी कॉलिज में प्रवेश ले लिया। किन्तु जल्दी ही वे देवेन्द्रनाथ टैगोर तथा केशव के माध्यम से ब्रह्म समाज की तरफ प्रवृत्त हुए। प्रताप चन्द्र मजूमदार ब्रह्मसमाज के प्रसिद्ध नेता थे। प्रतापचंद्र मज़ूमदार उदार और प्रगतिशील विचारों के व्यक्ति थे। ये एक रचनाकार भी थे जिन्होंने कई ग्रंथों की रचनाएं भी की थी। इन पर देवेन्द्र नाथ टैगोर और केशव चंद्र सेन के विचारों का गहरा प्रभाव था। बंकिम चंद्र चटर्जी और सुरेन्द्र नाथ बनर्जी इनके निकट के सहयोगी थे। प्रतापचंद्र मज़ूमदार 1859 में विधिवत् ब्रह्म समाज मे सम्मिलित हो गए थे। परंतु संगठन में मतभेद हो जाने के कारण जब ये केशव चंद्र सेन से मिले जिन्होंने 1865 में 'नव विधान समाज' नाम का अलग संगठन बनाया था, से जुड़ गये। प्रतापचंद्र मज़ूमदार 1874 और 1883 में ब्रह्म समाज की विचारधाराओं के प्रचार करने के लिये इंग्लैंड गए और भाषण दिये। 1893 से 1894 के शिकागो के धार्मिक सम्मेलन में भी इन्होंने भारतीय दर्शन पर भाषण दिये। अमेरिका में ये तीन महीने रहे और अनेक भाषण दिये। अमेरिका में इनके भाषणों का इतना प्रभाव पड़ा कि इनकी सहायता करने के लिये लोगों ने वहाँ 'मज़ूमदार मिशन फंड' के नाम से धन संग्रह करना शुरू कर दिया था। अपने विचारों के प्रचार के लिए 1900 ई. में प्रतापचंद्र मज़ूमदार एक बार फिर अमेरिका गए। प्रतापचंद्र मज़ूमदार उदार और प्रगतिशील विचारों के व्यक्ति थे। ये समाज में जाति, धर्म, भाषा आदि के आधार पर किसी प्रकार का भेदभाव नहीं मानते थे। इन्होंने युवाओं को प्रशिक्षित करने के लिए एक संस्था की स्थापना की थी जो बाद में कोलकाता विश्वविद्यालय का हिस्सा बन गई। इन्होंने कई ग्रंथों की रचनाएं भी की थी। उन्होंने अनेक पत्रों को सहयोग दिया तथा ब्रह्म समाज की नव विधान शाखा के सबसे महत्त्वपूर्ण अगुवा बन गये। वे उदारवादी शिक्षा और समाज सुधारों के लिए सुदृढ़ रहे। प्रतापचंद्र मज़ूमदार का 24 मई, 1905 को निधन हो गया था। Source- http://bharatdiscovery.org/ , http://www.kranti1857.org/

General Administration Department
Goverment of NCT of Delhi