Shaheed Kosh

इनके व्यक्तित्व के बारे में कोई भी तथ्य छूट गया हो या कोई तथ्य त्रुटिपूर्ण तो कृपया ज़रूर बतायें

श्री नारायण, कांकरोली का जन्म कांकरोली के एक समृद्ध सनाढ्य परिवार में संवत 1964 को हुआ था| प्रारम्भ में वे मथुराधीश के मंदिर में भेटिया के पद पर कार्यत थे| सन 1929 के अंत में वे भेंट उगाहने के लिए गुजरात गए| वहां नमक सत्याग्रह में तीन बार गिरफ्तार किये गए| सन 1938 में वे कांकरोली आए और प्रजामण्डल के आंदोलन में कूद पड़े| उन्होंने मेवाड़ के गांवो और कस्बो में घूम-घूमकर प्रजामण्डल का सन्देश दूर-दूर तक फैलाया| सादड़ी में आपत्तिजनक भाषण देने के अपराध में उन्हें गिरफ्तार करके जेल भेज दिया गया| उन्हें उदयपुर जेल से गडरी जेल में स्थानांतरित कर दिया गया| जेल की यातनाओं से उनका मस्तिष्क विक्षिप्त हो गया| उनका निधन ई. 1942 के मई मास में कांकरोली में हो गया|

General Administration Department
Goverment of NCT of Delhi