Shaheed Kosh

इनके व्यक्तित्व के बारे में कोई भी तथ्य छूट गया हो या कोई तथ्य त्रुटिपूर्ण तो कृपया ज़रूर बतायें

श्री कन्हैयालाल कुमावत श्री परमानंद जी के पुत्र थे| इनका कार्यक्षेत्र नाथद्वारा ही रहा| प्रजामण्डल के आंदोलन में 1938 में इन्होने भाग लिया था| पुलिस की लाठियों से बुरी तरह पीटे गए| राजसमंद न्यायालय में इनके विरुद्ध 2 वर्ष तक मुकदमा चला और अंत में डेढ़ महीने की सज़ा हुई| ये श्रमिक थे और अपने श्रम से परिवार का जीवन-यापन करते थे|

General Administration Department
Goverment of NCT of Delhi