Shaheed Kosh

इनके व्यक्तित्व के बारे में कोई भी तथ्य छूट गया हो या कोई तथ्य त्रुटिपूर्ण तो कृपया ज़रूर बतायें

श्री राधाकृष्ण कटारा खमनोर के मूल निवासी थे| उनके पिता का नाम श्री मोतीलाल पालीवाल था| उन्हें हिंदी, गुजरती व संस्कृत की शिक्षा दी गयी थी| 1938 में श्री कटारा ने प्रजामण्डल आंदोलन में भाग लिया था| उन्हें नाथद्वारा न्यायालय द्वारा 6 महीने की सज़ा दी गयी थी| वे पहले उदयपुर सेंट्रल जेल में और बाद में गिराई जेल में रखे गए थे|

General Administration Department
Goverment of NCT of Delhi