Shaheed Kosh

इनके व्यक्तित्व के बारे में कोई भी तथ्य छूट गया हो या कोई तथ्य त्रुटिपूर्ण तो कृपया ज़रूर बतायें

सुरेन्द्र नाथ बनर्जी का जन्म 10 नवम्बर 1848 को बंगाल के कोलकाता शहर में, एक बंगाली ब्राह्मण परिवार में हुआ था। सुरेन्द्रनाथ बनर्जी के पिता का नाम डॉ. दुर्गा चरण बैनर्जी था और वह अपने पिता की गहरी उदार और प्रगतिशील सोच से बहुत प्रभावित थे। सुरेन्द्रनाथ बैनर्जी ने पैरेन्टल ऐकेडेमिक इंस्टीट्यूशन और हिन्दू कॉलेज में शिक्षा प्राप्त की थी। कलकत्ता विश्वविद्यालय से स्नातक होने के बाद, उन्होंने रोमेश चन्द्र दत्त और बिहारी लाल गुप्ता के साथ भारतीय सिविल सर्विस परीक्षाओं को पूरा करने के लिए 1868 में इंग्लैंड की यात्रा की। 1868 ई. में वे स्नातक किये | वे उदारवादी विचारधारा के महत्त्वपूर्ण नेता थे। 1868 में उन्होंने इण्डियन सिविल सर्विसेज परीक्षा उतीर्ण की। 1877 में सिलहट के सहायक दण्डाधिकारी के पद पर उनकी नियुक्त हुई परन्तु शीघ्र ही सरकार ने उन्हे इस पद से बर्खास्त कर दिया। बैरिस्टर बनने में विफल रहने के बाद 1875 ई. में भारत लौटने पर वे प्रोफ़ेसर हो गये; पहले मेट्रोपालिटन इंस्टीट्यूट में (जो कि अब विद्यासागर कॉलेज कहलाता है) और बाद में रिपन कॉलेज (जो कि अब सुरेन्द्रनाथ कॉलेज कहलाता है) में, जिसकी स्थापना उन्होंने की थी। अध्यापक के रूप में उन्होंने अपने छात्रों को देशभक्ति और सार्वजनिक सेवा की भावना से अनुप्राणित किया। मेजिनी के जीवन और भारतीय एकता विषयों पर उनके भाषणों ने छात्रों में बहुत उत्साह पैदा किया। राजनीति में भी भाग लेते रहे और 1876 में इण्डियन एसोसिएशन की स्थापना तथा 1883 में कलकत्ता में प्रथम अखिल भारतीय राष्ट्रीय सम्मेलन आयोजित करने में प्रमुख योगदान दिया। इंडियन नेशनल एसोसिएशन जो भारत की प्राचीनतम राजनितिक संस्थाओ में से एक है और बाद में वे भारतीय राष्ट्रिय कांग्रेस के वरिष्ट नेता भी बने थे। उन्होंने 1883 और 1885 में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के दो सेशन को संगठित किया था। सुरेन्द्रनाथ बनर्जी और आनंदमोहन बोस ही भारतीय राष्ट्रिय कांफ्रेंस के मुख्य रचयिता थे। सुरेन्द्रनाथ ने इंडियन लिबरेशन फेडरेशन की भी स्थापना की थी। इसके साथ ही वे अपने उपनाम राष्ट्रगुरु के नाम से भी जाने जाते थे। बनर्जी “दी बंगाली” अखबार के एडिटर भी थे। 1905 में बंगाल प्रांत के विभाजन का विरोध करने वाले सुरेंद्रनाथ सबसे प्रमुख सार्वजनिक नेता थे। पूरे बंगाल और भारत में आंदोलन और संगठित विरोध, याचिकाओं और व्यापक जन समर्थन के क्षेत्र में बैनर्जी के अग्रणी होने के कारण, ब्रिटिश को अंत में मजबूर होकर 1912 में विभाजन के प्रस्ताव को वापस लेना पड़ा. बैनर्जी गोपाल कृष्ण गोखले और सरोजनी नायडू जैसे उभरते सहयोगी भारतीय नेता बन गए। 1906 में बाल गंगाधर तिलक के पार्टी के नेतृत्व को छोड़ने के बाद बैनर्जी कांग्रेस के कुछ वरिष्ठ "उदारवादी" नेताओं में से एक थे - जो ब्रिटिश के साथ आरक्षण और बातचीत के पक्ष में थे - चरमपंथियों के बाद - जो क्रांति और राजनीतिक स्वतंत्रता की वकालत करते थे। बैनर्जी स्वदेशी आंदोलन में एक महत्वपूर्ण व्यक्ति थे - विदेशी उत्पादों के खिलाफ भारत में निर्मित माल की वकालत करते थे - उनकी लोकप्रियता ने उन्हें शिखर पर पहुंचा दिया था, प्रशंसकों के शब्दों में वह "बंगाल के बेताज राजा" थे। भारतीय राजनीति में उदारवादी भारतीय नेताओं की लोकप्रियता में गिरावट से बनर्जी की भूमिका प्रभावित होने लगी। बनर्जी ने मॉर्ले-मिन्टो सुधार 1909 का समर्थन किया | जिससे उन्हें भारतीय जनता और अधिकांश राष्ट्रवादी राजनेताओं द्वारा अपर्याप्त और व्यर्थ के रूप में उपहास और नाराजगी का सामना करना पड़ा। बनर्जी ने उभरते हुए लोकप्रिय राष्ट्रवादी भारतीय नेता मोहनदास गांधी द्वारा प्रस्तावित सविनय अवज्ञा की विधि की आलोचना की। बंगाल सरकार में मंत्री का विभाग स्वीकार करने के बाद उन्हें अधिकांश जनता और राष्ट्रवादियों के क्रोध को झेलना पड़ा और वह विधान चंद्र रॉय स्वराज्य पार्टी के उम्मीदवार के विरूद्ध बंगाल विधान सभा का चुनाव हार गए - सभी व्यावहारिक प्रयोजनों के लिए उनकी राजनीतिक जीवन की समाप्ति हुई। साम्राज्य को राजनीतिक समर्थन देने के लिए उन्हें 'सर' की उपाधि दी गई। बंगाल सरकार में मंत्री के रूप में सेवा के दौरान, बनर्जी ने कलकत्ता नगर निगम को और अधिक लोकतांत्रिक बना दिया। 6 अगस्त 1925 को बैरकपुर में उनका निधन हो गया।। आज व्यापक रूप से सम्मानित भारतीय राजनीति के एक अग्रणी नेता के रूप में - सशक्तीकरण के पथ पर चलने वाले पहले भारतीय राजनीतिक के रूप में उन्हें याद किया जाता है। उनके महत्वपूर्ण प्रकाशित काम एक राष्ट्र का निर्माण, जिसकी व्यापक रूप से प्रशंसा की गई। Source- http://bharatdiscovery.org/ , http://www.gyanipandit.com/ , http://hindi.culturalindia.net/

General Administration Department
Goverment of NCT of Delhi